Tag

Life

Browsing

Making a decision is a part of our daily life. Every single day we make some sort of decisions. Research data provided by Columbia University says we make over 70 decisions every day. This may sound too much to you, but it’s true. Those decisions include everything such as what to eat, what to wear, where to go, what to do, etc. Some decisions are easy to make, while some are way too difficult —…

Being busy all the time is not as good as people think. Those who always say, “I’m busy.” Are they really busy doing something great that can help them become successful? Well, the answer is “no.” Because being busy will never make you successful. Being too busy all the time is the lack of ability to prioritize your life. When people say they are busy, most of them are actually wasting their time on those…

ज़िन्दगी में जैसी जैसे हम बड़े होते हैं, अपनी मासूमियत खोने लगते हैं. हमारी उत्सुकता और कल्पनाएँ भी बचपन की तरह नहीं होती. हम बड़े होते ही अपने लुक्स, पॉपुलैरिटी और सक्सेस के बारे में सोचने लगते हैं. हम एक दुसरे से कॉम्पटीशन भी करते हैं. यहाँ तक की हम सोशल मीडिया पर अपनी रैंक और स्टेटस जैसी चीज़ों को लेकर भी चिंतित रहते हैं. हम अपनी ही एक छोटी सी दुनिया बनाने की कोशिश…

Do you also believe that some people are born genius? Or they become a genius later? Is it possible to increase the capabilities of the human brain? Well, scientists used to believe that we cannot make any major change in the brain we are born with. But Neuroplasticity changed this concept completely. Neuroplasticity: The brain’s ability to reorganize itself by forming new neural connections throughout life. Neuroplasticity allows the neurons in the brain to compensate for…

क्या आप भी मानते हैं कि कुछ लोग अपने जन्म से ही जीनियस होते हैं. या फिर बाद में एक जीनियस बन जाते हैं? क्या हम अपने दिमाग को समझ कर इसकी क्षमताओं को बढ़ा सकते हैं? विज्ञानिक ऐसा मानते थे कि हम जिस दिमाग के साथ पैदा हुए हैं, उसमें ज़्यादा कुछ बदलाव नहीं किया जा सकता. लेकिन न्यूरोप्लास्टीसिटी ने इस अवधारणा को बदल के रख दिया. Neuroplasticity: The brain’s ability to reorganize itself by…

पॉजिटिव थिंकिंग, सुनने में तो एक सामान्य सी बात लगती है लेकिन हमारे जीवन में इसका बहुत ही असामान्य असर होता है। कहते हैं जो हम सोच सकते हैं वो हम कर भी सकते हैं। तो क्यूँ न कुछ बेहतर सोचा जाए और कुछ बड़ा किया जाए? वैसे तो पॉजिटिव सोचने या पॉजिटिव थिंकिंग रखने के कई फायदे हैं लेकिन हम यहाँ 7 ऐसे फायदों की बात करेंगे हमारी शख्सियत को और भी बेहतर बना सकती हैं। 1.…

लोग अक्सर सक्सेसफुल होने की बात करते हैं। हम भी अपने आर्टिकल्स में अक्सर करते हैं क्यूंकि लाइफ में सक्सेस हासिल करना बेहद ज़रूरी है। भले ही वो किसी भी फील्ड में हो। सक्सेस का मतलब सिर्फ बड़ा बन जाना या अधिक पैसे कमाना ही नहीं बल्कि इससे कहीं बढ़ कर है। अलग-अलग लोगों के लिए सक्सेस का अलग-अलग मतलब होता है। आपके लिए सक्सेस का क्या मतलब है, अगर आप चाहे तो कमेंट्स सेक्शन…

लाइफ में अगर विनर बनना है तो एक विनर की तरह सोचना होगा। सही सोच ही इंसान को सफल बनाती है और जो अपनी सोच पर काबू कर ले वो अपने सपनों को एक दिन साकार ज़रूर कर सकता है। सुनने में तो ये काफी आसान लगता है लेकिन ज़्यादातर लोग इस बात को नहीं समझ पाते है कि सक्सेसफुल होने के लिए सबसे बेसिक चीज़ें क्या है। इससे पहले कि आप एक विनर की…

आजकल जागरूक रहना ही बुद्धिमत्ता की पहचान होती है और देखा जाए तो पर्सनल ग्रोथ और सक्सेस पाने के लिए जागरूक बनना बेहद ज़रूरी भी है। अवेयरनेस (जागरूकता) एक ऐसी चीज़ है जिसके लिए आपको किसी की ज़रुरत नहीं, इसे आप स्वयं हासिल कर सकते हैं। सेल्फ-अवेयर कैसे बने? जैसा कि हमने कहा अवेयरनेस ज़रूरी है लेकिन हम खुद को कैसे अवेयर रख सकते हैं? और इसके फायदे क्या हैं? हमारा ऐसा मानना है कि…

I am not a product of my circumstances. I am a product of my decisions. स्टीफन कोवी के द्वारा कही गयी इस लाइन का मतलब है कि ‘मैं अपने परिस्थितियों कि उपज नहीं हूँ। मैं अपने निर्णयों कि उपज हूँ।’ बेशक इस लाइन का शाब्दिक अर्थ ये नहीं है लेकिन कहने का मतलब यही है। कोलंबिया यूनिवर्सिटी की एक रिसर्च में पाया गया था कि हम एक दिन में 70 से भी ज्यादा डिसिशन लेते…