आप किसी के आसपास होने पर या किसी से बात कर के या फिर किसी से मिलकर कैसा महसूस करते हैं, इसका अंदाज़ा आपकी आवाज़ या बोलने के तरीके से लगाया जा सकता है.

अगर आप एक मेल हैं और सामान्य से थोड़ी धीमी आवाज़ में बात कर रहे हैं तो इसका मतलब है कि आप किसी फीमेल से बात कर रहे हैं. ठीक ऐसा ही फ़ीमेल्स के साथ भी होता है.

क्या ऐसा सच में होता है?

दरअसल ऐसा हम नहीं कह रहे बल्कि ‘नॉनवर्बल बिहेवियर’ नाम की एक संस्था ने एक स्टडी में इस बात का खुलासा किया था.

Couple Siting Together

इस स्टडी के अनुसार, जब भी हम किसी ऐसे इंसान से बात करते हैं जो दिखने में आकर्षित हों, तो हम उनसे सामान्य से थोडा धीमे स्वर में बात करने लगते हैं. हलाकि इस स्टडी में ये भी बताया गया है कि फीमेल किसी आकर्षित व्यक्ति से बात करते समय अपने आवाज़ के पिच को सामान्य से थोड़ा ज्यादा कर लेती हैं. जबकि अन्य लोगों से बात करते वक़्त हम किसी और ही स्वर में बात करने लगते हैं और हमारे आवाज़ का पिच भी बदलने लगता है.

कभी-कभी परिस्थितियों के अनुसार भी हम अपनी आवाज़ में फेर-बदल कर लेते हैं. उदाहरण के तौर पर — झूठ बोलते समय, या अपने बॉस से बात करते वक़्त हमारी आवाज़ का पिच कुछ अलग ही होता है.

Couple Having Conversation

आप में से शायद कुछ लोगों को इस स्टडी के परिणाम थोड़े उल्टे लग सकते हैं लेकिन जब एक दूसरी स्टडी में जब कुछ मेल और फीमेल को ‘सेक्सी वोईस’ में बात करने के लिए कहा गया तो दोनों ने ही अपने आवाज़ के पिच को बेहद कम कर लिया. हलाकि फीमेल के आवाज़ का पिच मेल से भी कम था.

दोनों ही स्टडीज से एक बात तो साफ़ है कि हम इंसान अपनी ज़रुरत और सुविधा के अनुसार कितनी जल्दी ख़ुद में बदलाव कर लेते हैं.

उम्मीद है इस स्टडी परिणामों को जानने के बाद अब आप इस बात का अंदाज़ा लगा सकेंगे कि सामने वाला इंसान आपसे बात करते वक़्त कैसा महसूस कर रहा है.

यह भी पढ़ें: ‘आई लव यू’ कहने के 10 और भी खूबसूरत तरीके

  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
Kriti Sharma

Awesome. <3 <3