अगर हम अपने चारो तरफ नज़र दौड़ाएं तो हमें हमारे ही आस-पास कई तरह के बिज़नस और आईडियाज़ देखने को मिलेंगे जिनका मकसद पैसा कमाना या लोगों की भलाई करना है। पर बिज़नस चाहे जैसा भी हो, उसमें इनोवेशन की आवश्यकता तो होती ही है। इनोवेशन की ज़रुरत इसलिए भी है क्यूंकि कोई भी बिज़नस मॉडल कितना भी अच्छा क्यूँ न हो, बदलते वक़्त के साथ एक दिन वो बेकार हो ही जाता है।

बिज़नस को बेहतर बनाने की एक आम राय ये भी है कि कस्टमर्स की राय लेकर अपने बिज़नस मॉडल में बदलाव किया जाए। लेकिन एक्सपर्ट्स का ऐसा मानना है कि हद से ज्यादा कस्टमर्स की बात सुनना भी किसी बिज़नस के पतन का कारण बनता है।

दरअसल इनोवेशन के कई रास्ते होते हैं और हर किसी को अपना रास्ता खुद बनाना चाहिए। ये ज़रूरी नहीं कि अगर किसी एक रणनीति से किसी को सफलता मिल गयी तो हर कोई उसी रास्ते पर चल के सफल हो सकता है। इसलिए बेहतर यही है कि आप खुद अपने लिए नए रास्ते तलाशें।

चलिए अब बात करते हैं इनोवेशन से जुड़े कुछ ख़ास तथ्यों और ज़रूरी बातों के बारे में।

1. आपकी सफलता अक्सर आपके ही खिलाफ काम करती है

इनोवेशन

किसी भी बिज़नस, कंपनी या आर्गेनाइजेशन में एक मेनेजर का काम है कंपनी में अच्छे एम्प्लोयीज़ को भर्ती करना और उन्हें सशक्त बनाना। देखा जाए तो इनोवेशन कोई मेनेजर नहीं करता, बल्कि एम्प्लोयीज़ करता है लेकिन ये तभी संभव है जब संस्था को चलाने वाले लोगों की इक्षा शक्ति मजबूत हो।

सच तो ये है कि कुछ नया इनोवेट करने के लिए बहुत से एक्सपेरिमेंट्स की ज़रुरत होती है जिनमें से ज़्यादातर एक्सपेरिमेंट्स फ़ेल साबित होते हैं। यही वजह है कि सफलता अक्सर विफलता की और धकेलती रहती है। इसलिए अगर फेलियर से डरेंगे तो आप कुछ भी नया या इनोवेटिव नहीं कर पायेंगे।

2. इमरजेंसी जैसे माहौल ढूंढें और उनका सही इस्तेमाल करें

इनोवेशन एक अच्छा बिज़नस मैन या मेनेजर हमेशा बड़े मार्केट्स की तलाश में रहता है ताकि वो अपने बिज़नस स्केल को बढ़ा सके। लेकिन जब आप कुछ इनोवेटिव या बिलकुल नया कर रहे हों और अपने बिज़नस स्केल को बढ़ानें में जल्दबाज़ी करेंगे तो आपका बिज़नस शुरू होने से पहले ही ख़तम हो सकता है। क्यूंकि इनोवेशन बस एक बार में ही नहीं हो जाता, यह एक लम्बी प्रक्रिया होती है।

इमरजेंसी जैसे माहौल का मतलब ये है कि किसी की कोई ऐसी प्रॉब्लम हो जिसे तुरंत ठीक किया जाना ज़रूरी हो या फिर कोई ऐसा मार्केट जहाँ किसी ख़ास प्रोडक्ट की बेहद ज़रुरत हो। अगर आप वक़्त में पीछे जाकर देखें तो यही पायेंगे कि दुनिया में उन्होंने ही सबसे ज्यादा प्रॉफिट हुआ है जिन्होंने लोगों की समस्याओं और ज़रूरतों को समझ कर उन्हें दूर करने का काम किया है।

3. शुरुआत सबसे मुस्किल कामों से कीजिये

इनोवेशन इनोवेशन या नयापन का मतलब सिर्फ नए आईडियाज़ ही नहीं होते बल्कि इसका मतलब होता है प्रॉब्लम्स को सॉल्व करना और मुस्किल काम को सबसे पहले करना।

सच तो ये है कि लोग आपके आईडियाज़ की कोई परवाह नहीं करते, वे परवाह करते हैं तो बस अपनी प्रॉब्लम्स की जिन्हें आप सोल्व कर सकते हैं। ज़्यादातर लोग इनोवेटिव नहीं होते हैं, इसकी वजह आईडियाज़ नहीं बल्कि सब्र की कमी होती है। ज़्यादातर लोग मुस्किल कामों बीच में ही छोड़ देते हैं।

4. परिस्थितियां हमेशा एक जैसी नहीं होती

इनोवेशन कभी-कभी लोग नयेपन के लिए तैयार नहीं होते। सच तो यही है कि जब कोई ऐसी चीज़ होती है जिसमें दुनिया बदलने की ताकत होती है तो दुनिया उस चीज़ के लिए तैयार नहीं होती। इसका ये मतलब नहीं कि इनोवेशन के बारे में न सोचा जाए क्यूंकि इनोवेशन कोई एक दिन का काम नहीं, इसमें सालों लगते हैं और जो चीज़ें आज हमें आम सी लगती हैं आगे चल कर वही चीज़े बेहद ख़ास हो जाती हैं।

READ NEXT: आकर्षक लड़कियों से बात करते वक़्त क्यूँ बदल जाती है हमारी आवाज़?

  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
S S Chaturvedi

Quite inspiring

[…] READ ALSO : इनोवेशन या नयापन का मतलब सिर्फ नए आईडि… […]